September 26, 2022
Active Investing क्या होता है? | Active Investing के फायदे क्या होते है ?

Active Investing क्या होता है? | Active Investing के फायदे क्या होते है ?

Active Investing kya hota hai :- दोस्तों आपने कभी न कभी तो Active Investing नाम अवश्य सुना होगा । मगर क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है, कि Active Investing क्या होता है,

और Active Investing का अर्थ क्या होता है और Active Investing का क्या फायदा होता है, अगर आपको इन सब के बारे में नहीं मालूम है।

और आप Active Investing के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप हमारे इस लेख के साथ अंत तक बने रहे क्योंकि। इस लेख में हम Active Investing से जुड़ी हर एक जानकारी प्राप्त करने वाले हैं तो चलिए शुरू करते हैं इस लेख को बिना देरी किए हुए।


Active Investing क्या होता है? | What is Active Investing In Hindi

Active Investing पैसा को Invest करने का एक तरीका होता है। जब कोई भी ब्यक्ति खुद से market के बारे में पूरे तरह से research और Analysis कर के किसी भी चीज़ में अपना पैसा Invest करता है, तो उसी को Active Investing कहा जाता है।

Active Investing में कोई भी ब्यक्ति Investment के लिए किसी और के ऊपर निर्भर नहीं रहता है, वह खुद से सारे चीज़ों को manage कर के और market को देखते हुवे कही भी पैसा Invest करता है, तो इसी तरीका को Active Investing कहते है।

वैसे पैसा को कहीं पर Invest करने के मामले में Active investing और Passive investing ये दोनों ही काफी फेमस है। मगर लोग अपने भरोसे और Experience के आधार पर इन दोनों तरीके को अपनाते हैं, हालांकि Active investing और Passive investing अपने अपने जगह पर काफी अच्छे है।

दोनों के अपने अपने खूबियां है और इनके कुछ तौर तरीके भी है। जिस Investor को जो तरीका बढ़िया लगता है, वह उसी तरीका को अपना के कही भी अपना पैसा Invest करता है।


Active Investing Meaning In Hindi | Active Investing का अर्थ क्या होता है?

Active Investing का Meaning Hindi में  “सक्रिय निवेश sakriy Nivesh” होता है, बहुत से लोग इसे Self Investing के नाम से भी जानते है। क्योंकि इस तरीका को अपनाने के बाद ज्यादा तर काम खुद ही करना होता है।


Active Investing के फायदे | Benefits Of Active Investing In Hindi

दोस्तों हमने ऊपर के टॉपिक में जाना कि Active Investing क्या है और Active Investing का अर्थ हिंदी में क्या होता है, अब हम इस टॉपिक के माध्यम से जानेंगे कि Active Investing करने के क्या क्या फायदे है। तो चलिए शुरू करते हैं, इस टॉपिक को बिना देरी किए हुए।

Active Investing करने का फायदा बहुत सारा होता है लोग यूं ही Active Investing को करना पसंद नहीं करते हैं। हमने Active Investing के सभी फायदों को नीचे में स्टेप बाई स्टेप करके लिखा है तो आप उन्हें ध्यान से पढ़ें और समझें।

  • Active Investing का सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि, कोई भी ब्यक्ति Investing के लिए किसी और के ऊपर आश्रित नहीं होता है।
  • Active Investing में कोई ब्यक्ति अपना investment ख़राब होने पर उसमे से जल्दी से Action ले सकते है।
  • एक बार Active Investing सिखने के बाद कोई भी ब्यक्ति अपने पैसों को अलग तरीके से Invest करने के लिए किसी को Extra Charge नहीं देता है। क्योंकि वह खुद से ही market को समझ चुका होता है।
  • Active Investing के मदद से कोई भी ब्यक्ति कम से कम समय में अच्छा खासा पैसा कमा सकता है।
  • Active Investing करते करते कोई भी ब्यक्ति share market के बारे के अछे से जान सकता है और वह सारे चीज़ों को समझ सकता है।

Active Investing और Passive Investing  में अंतर

Active Investing और Passive Investing में काफी सारा अंतर होता है दोनों अपने अपने जगह पर काफी सही है मगर ईनके बीच कुछ ऐसा फर्क होता है। जो इनको एक-दूसरे से काफी अलग बनाता है तो इस टॉपिक के माध्यम से हम इनके अंतर को स्टेप बाई स्टेप करके देखेंगे तो चलिए शुरू करते हैं इस टॉपिक को।

1) Active Investing करने वाले ब्यक्ति को खरीद और बिक्री के फैसला काफी जल्‍दी-जल्‍दी लेना पड़ता हैं, ऐसा Markets में investing, जानकारी और कीमतों में आये fluctuation के आधार पर किया जाता है। जबकि, Passive investing में ऐसा बिल्कुल नही होता है, इसमे invest में रिसर्च, खरीद और होल्‍ड करने से जुड़ी होती है।

2) Active Investing में Capital Gains taxes ज्यदा शामिल होता है। क्योंकि इस मे अंदर Passive investing के मुकाबले ज्‍यादा transaction किये जाते है, । जबकि Passive investing में ट्रांजेक्‍शन काफी कम होता है, क्योंकि इसमें investment को ज्यादा hold कर के रखा जाता है और इसी के कारण से Passive investing में Capital Gains taxes भी कम शामिल होता है।

3) Active Investing का मेन मकसद होता है market index को पछाड़ना, वहीं, Passive investing का मुख्य मकसद market return में ज्यादा से ज्यादा मुनाफा कमाना।  इस मामले में return की अपेक्षा सीमित होती है।

4) Active Investing में Passive Investing के मुकाबले ज्‍यादा जोखिम होता है, लेकिन, ज्यादा से जयदा पैसा return होने की गुंजाइश भी Active Investing में ही होती है, Passive Investing में Average बेंचमार्क जितना रिटर्न मिलता है। तो दोस्तों Active Investing और Passive Investing में यही कुछ खास अंतर थे।

5) Active Investing में Passive Investing के मुकाबले transaction ज्‍यादा होते हैं। ऐसा खरीद और बिक्री के फैसले जल्‍दी-जल्‍दी लेने के वजह से होता है। Active Investing में Passive Investing के मुकाबले research संबंधी post भी ज्‍यादा होती है।


Watch This For More Information :-


( Conclusion, निष्कर्ष )

उम्मीद करता हूं, कि आप को मेरा यह लेख बेहद पसंद आया होगा और आप इस लेख के मदद से  Active Investing क्या होता है, के बारे में जानकारी प्राप्त कर चुके होंगे।

हमने इस लेख में सरल से सरल भाषा का उपयोग करके आपको Active Investing in hindi, से जुड़ी हर एक जानकारी के बारे में बताने की कोशिश की है।

Also Read :-

Leave a Reply

Your email address will not be published.