January 28, 2023

Tumruka Ji Kaun Hai | तुमरुका जी कौन है ?

Tumruka Ji Kaun Hai :- हाल ही में प्रदीप मिश्रा, जो भजन प्रस्तुत करता और कथाकार हैं, वे अपने शिव कथा पुराण को सुनाने के लिए काफी ज्यादा लोकप्रिय हो रहे हैं। साथ ही यह कथा सुनाते हुए कई तरह के उपाय भी बताते हैं।

इसी तरह पुत्र प्राप्ति के लिए एक उपाय बताते हुए प्रदीप मिश्रा जी ने तुमरुका जी का उल्लेख किया था, इसलिए कई भारतवासी यह जानना चाहते हैं, कि Tumruka Ji Kaun Haiऔर तुमरुका जी का मंत्र क्या है ?

तुमरुका जी के बारे में इतने प्रश्नों को देखते हुए हमने इस लेख के माध्यम से अपने पाठकों को Tumruka Ji Kaun Hai प्रश्न का उत्तर देने का निश्चय किया है ? साथ ही हम इस लेख में प्रदीप मिश्रा जी के उपाय भी जानेंगे जोकित तुमरुका जी से संबंधित हैं।


तुमरुका जी कौन है ? – Tumruka Ji Kaun Hai

तुमरुकाजी भगवान शिव के बहुत बड़े भक्त थे और उन्होंने ही सबसे पहली बार शिव महापुराण की कथा सुनाई थी। तुमरुका जी का चेहरा तो घोड़े की तरह है परंतु इनका शरीर इंसान की तरह है। इनके हाथ में एकवीरा भी है, क्योंकि यह एक गायक और संगीतकार भी है।

तुमरुका जी के पिता का नाम कश्यप और माताजी का नाम प्रधा था।  साथ ही इनके चार भाई थे। महाशिवपुराण की कथा तुमरुकाजी ही बाँचते थे, इसीलिए प्रदीप मिश्रा जी के द्वारा महाशिवपुराण कथा में इनका उल्लेख किया गया था।


तुमरुका जी की कथा

तुमरुका जी एक अच्छे गायक और संगीतकार थे, जिसके कारण यह भगवान विष्णु के सबसे प्रिय गायक थे और इसके लिए भगवान विष्णु द्वारा इन्हें पुरस्कार भी दिया गया था। इसे देखकर नारद मुनि जी को काफी ठेस पहुंचा था और उन्हें तुमरुका जी से काफी जलन भी होने लगी थी।

लेकिन बाद में भगवान विष्णु द्वारा नारद मुनि को समझाया गया और बताया गया कि किसी से भी जलन रखने से कोई फायदा नहीं होगा। बल्कि तुम्हें तुमरुका से संगीत और गायकी से संबंधित कुछ अन्य ज्ञान भी सीखना चाहिए और अपने आप को श्रेष्ठ बनाना चाहिए।


तुमरुका जी के अनुसार पुत्र प्राप्ति के लिए शिव मंत्र

तुमरुका जी की चर्चा महाशिवपुराण में की जाती है और इसी मैं तुमरुका जी से संबंधित एक चर्चित कथा है जैसे प्रदीप मिश्रा जी के उपाय में बताया गया है। यानी प्रदीप मिश्रा जी ने पुत्र प्राप्ति के लिए तुमरुका जी का मंत्र बताया है।

यह उपाय इस प्रकार है कि अगर किसी भी स्त्री को संतान प्राप्ति नहीं हो रही है तो वह भगवान शिव पर विश्वास रखें और सफेद आंक की जड़ को ले ले और उसे रजस्वला धर्म के सातवें दिन भगवान शिव के मंदिर में ले जाएं। वहां पर तुमरुका जी का नाम ले और 21 बार घूमे।

इसके बाद अपना नाम ले गोत्र ले अपने पति का नाम बोले और शिव भगवान से संतान प्राप्ति की प्रार्थना करें। इतना करने के बाद आपको उस जड़ को ले जाकर पहले लाल धागे में बांध लेना है और मंदिर के अंदर ही कमरे में उसे कहीं पर बांध देना है।

ऐसा करने के बाद भगवान शिव की कृपा से आपके घर में भी संतान प्राप्ति होगी और आप खुश हो पाएंगे।

तुमरुका भगवान के माध्यम से आपको शिव जी का आशीर्वाद प्राप्त होगा और आपके घर में भी संतान की किलकारियां जरूर गूंजे की।


FAQ’S :- 

प्रश्न 1तुमरुका जी का मंत्र क्या है ?

उत्तर - तुमरुका जी का मंत्र श्री शिवाय नमस्तुभयम है।

प्रश्न 2तुमरुका जी का मंदिर कहां है ?

उत्तर - तुमरुका जीके मंदिर के बारे में कोई विशेष उल्लेख नहीं है। इसलिए तुमरुका जी के मंदिर के बारे में भी 
अभी तक जानकारी नहीं मिल पाई है।

प्रश्न 3तुमरुका जी के उपाय क्या है ?

उत्तर - दरअसल तुमरुका जीके उपाय संतान प्राप्ति से संबंधित हैं, जिसकी जानकारी हमने इस लेख में बताई है।

प्रश्न 4तुमरूका भगवान कौन थे ?

उत्तर - तुमरुका भगवान भोलेनाथ के सबसे बड़े भक्त थे और उन्होंने ही सबसे पहली बार चंचला देवी को महाशिवपुराण कथा सुनाई थी।

निष्कर्ष :- 

आज के इस लेख में हमने जाना, कि Tumruka Ji Kaun Hai ?

उम्मीद है, कि इस लेख के माध्यम से आपको तुमरुका जी से संबंधित कुछ जानकारियां मिल पाई होंगी। यदि आप इसी प्रकार की और भी जानकारियां पाना चाहते हैं तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हैं।


Also Read :- 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *